Sabse Bada Aascharya


Sant Shri Asaramji Amritvani

Prayagraj ,

KumbhaParv 2007

Satsang Ke Mukhya Ans :

* yudhister se pucha gaya ki sabse bada aascharya kya hai ? Yudhister maharaj ne kaha…sab log din din marte jate hain , marta hai koi , shok dusra kerta hai …mritak ko chorne jate hain , kahte hain bechara aisa hai ..mer gaya is murkh ko pata nahi tu bhi yahi aane vala hai ….

* mujhe to isse se bhi bada aascharya mil gaya …kya bada aascharya mila bapuji ? ….jo pal pal me hamara dhyan rakhta hai , uski to yaad aati nahi aur jo hamko puchte nahi uski yaad mitte nahi , ye kitna durbhagya hai lo!

संत श्री आसारामजी बापू

प्रयागराज

कुम्भपर्व २००७

सत्संग के मुख्या अंश  :

* युधिष्टिर से पूछा गया की सबसे बड़ा आश्चर्य क्या है ? युधिष्टिर महाराज ने कहा …सब लोग दिन दिन मरते जाते हैं , मरता है कोई शोक दूसरा करता है …मृतक को छोड़ने जाते हैं , बेचारा ऐसा है मर गया …इस मुर्ख को पता नहीं तू भी यही आने वाला है ….

* मुझे तो इससे भी बड़ा आश्चर्य मिल गया …क्या बड़ा आश्चर्य मिल गया बापूजी ? …जो पल पल में हमारा ध्यान रखता है , उसकी तो याद आती नहीं और जो हमको पूछते नहीं उसकी याद जाती मितटी नहीं , ये कितना दुर्भाग्य है …लो  !….

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: