BhagwadPrapti Me 9 Vighna


संत श्री आसारामजी अमृतवाणी

शिवरात्रि ध्यान योग शिविर

नासिक २०१०

सत्संग के मुख्या अंश :

भगवद प्राप्ति में ८ प्रकार के विग्ना आते हैं उनसे बचें तो भाग्वाद्प्रप्ती सहज हो जाये …-

१ . आलस्य : अच्छा काम करने में आलस्य , परमार्थ में ढील करना , जप-ताप में ढील करना , ईश्वर प्राप्ति के साधन में  चलो बाद में करेंगे …

२ विलासिता : देखे- सम्भोग से १० प्रकार की हानि

३:  प्रसिद्धि की वासना : आदमी को बहिर्मुख केर देती है , प्रसिद्धि की वासना में आदमी न करने जैसे काम केर लेता है …

४ . मन , बढ़ाई , इर्ष्या : अपने से जादा कोई सुखी है , अपने से जादा कोई समजदार है अपने से जयादा किसी की प्रसिद्धि है तो उसको देख कर मन में जो इर्ष्या होती है वो भी साधक को नहीं आने देनी चाहिए …

५ अपने में गुरुभाव की स्थापना करना : मै जानकार हूँ , मै बड़ा गुरु हूँ , मै बड़ा श्रेष्ठ  हूँ , अपने में गुरु मन बड़ा भाव धारण करना …

६ बाहरी दिखावा : घर का , धन का , सत्ता का , बुद्धिमत्ता का दिखावा ….

७ परदोष चिंतन : किसी  के दोष देख कर अपने को  दोषी क्यों बनाना

८ संसारी कार्यों की अधिकता : विश्रांति भी छूट  जाती है , ध्यान भजन भी छूट  जाती है और चित्त को भगवान का आराम पके भगवद रस पाना भियो छुट जाता है ..

९ परोपकार : परोपकार करे लेकिन , दिखावा न करे , ….परोपकार का फल संसारी चीज की भावना न करे ,….. परमात्मा  प्रीती के लिए लगा दे…..

Sant Shri Asaramji Amritvani

ShivRatri Dhyan Yog Shivir

Nashik 2010

Maharastra

Satsang Ke Mukhya Ans :

Bhagwat prapti mein 8 prakar ke vigna aate hein unse bachein to bhagwat prapti sahej ho jaye

1. Alasya : Achha kam karne mein alasya, parmarth mein dheel jarna, jap tap mein dheel karna, eshwar prapti ke sadhan mein chalo bad mein karenge …

2. Vilasita: Watch SAMBHOG SE 10 PRAKAR KI HANI

3. Prashidhi ki vasna: Aadmi ko bahirmukh kardeti hai, prashidhi ki vsna mein aadmi na karne jaise kam kar lena hai…

4. Man, Badai, Ershya: Apne se jada koi sukhi hai, apne se jada koi samajhdar hai apne se jada kisi ki prassidhi hai to usko dekh kar man mein jo ershya hoti hai wo bhi sadhak ko nahi aane deni chahiye…

5. Apne mein guru bhao ki sthapna karna: Mein jankar ju , mein bada guru hu, mein bada shresta hu, apne mein guru mana bada bhav dharan karna…

6. Bahari Dikhawa: ghar ka, dhan ka , satta ka, budhimatta ka dikhawa…

7. Pardosh Chintan: kissi ke dosh dekh kar apne dill ko doshi ku banana

8. Sansari karyo ki adhikta: Vishranti bhi chut jati hai, dhyan bhajan bhi chut jata hai aur chitta ko bhagwan ka aarm pake bhagwat ras pana bhi chut jata hai…

9 . Paropkaar : pparopkaar kare , lekin dikhava na kare , paropkaar ka fal , ….parmatma prit me laga de….

.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: