GuruSewa Rishi Prasad


संत श्री आसारामजी अमृतवाणी

ऋषि प्रसाद सेवादार सम्मलेन

उत्तरायण ध्यान योग शिविर

उज्जैन २०१०

सत्संग के मुख्य अंश :

* लोगों को भगवान से जोड़ना और संत वाणी से जोड़ना ये अपने आप में बड़ी सेवा है ….

तीर्थ नहाये एक फल , संत मिले फल चार

सदगुरु मिले अनंत फल , कहत कबीर विचार

* अपने लिए तो कई जिंदगी बर्बाद हो गयी , लेकिन धर्म के लिए ….धर्मं के लिए गांधीजी भी जेल गए , नानक भी तो गए , बाबर ने नानक जी को जेल डाला ….फिर भी नानक अभी भी हमारे दिलों में आदरणीय हैं …..ऐसे ही बुद्ध कितना दुष्ट लोगों ने साजिशें की …..वैश्या आके बोलती थी बुद्ध तो मेरे साथ ही सोते हैं ….गुनाह तो किसी ने किया , आरोप बुद्ध पर आ गए …..

*  कई प्रकार के कर्म होते हैं , लेकिन भगवान और संत से निगुरों , सगुरे की मुलाकात करना कितनी बड़ी सेवा है ….

* वाह- वाही के लिए , चाटुकारी के लिए तो नेता भी सेवा कर लेता है , रोटी के टुकड़े के लिए तो कुत्ता भी पूछ हिला देता है …लेकिन मान – अपमान , ठंडी -गर्मी , आंधी -तूफ़ान …..

ऑडियो  (AUDIO)

विडियो (VIDEO)


Bapuji`s Message In RishiPrasad Sewadar Sammelan 2007

(बापूजी का सन्देश सेवादारों के नाम )


Sant Shri Asaramji Amritvani

Rishi Prasad Sewadar Sammelan

Uttarayan Dhyan Yog Shivir

Ujjain 2010

Satsang Ke Mukhya Ans :

* logon ko bhagwan se jodna aur sant vani se jodna ye apne aap me badi bhari sewa hai ….

tirth nahaye ek fal sant mile fal char sadguru mile anant fal kahat kabir vichar

* apne liye to kai jindagi barbaad ho gayi , dharm ke liye ……. , gandhi ji bhi to gaye the , nanak bhi to gaye the , babar ne nanak ji ko jail me dala ….fir bhi nanak abhi bhi hamare dilon me  adarniya hain …. aise hi buddh ke liye kitna dust logon ne  sajishe ki …vaisya aake bolti thi buddha to mere sath hi sote hain …..gunah to kissi ne kiya aarop buddha per aa gaye…

* kai prakaar ke karma hote hain , lekin bhagwan aur sant se nigure , sagure ki mulakat karana kitni badi sewa hai ….

* vahvahi ke liye , chatukari ke liye  to neta bhi sewa karta hai , roti ke tukde ke liye to kutta bhi puch hila deta hai ,…lekin maan -apmaan , thandi – garmi , andhi-tufan ……


Advertisements

Ishwar ki Sarvyapakta ka anubhav kaise karen?


संत श्री आसारामजी अमृतवाणी
२६ फरवरी २०१०
मुंबई
सत्संग के मुख्य अंश :
* परमात्मा सबमे अनुश्युत है ….
* पुरानी बाते याद  करके दुखी नहीं होना चाहिए …….
* ” तेन त्यक्तेन भुन्जिता ” …. कितना भी पकड़ के रखो सब छुट  रहा है ……
* “ईशावाश्य मिदं सर्वंम  ”
* ईश्वर की कृपा की प्रतीक्षा नहीं समीक्षा करो ….
*रोज  भगवान का ध्यान करना ….हरी हरी ऊओम मम्म्म  हरीईईई ऊऊम ऐसा १० मिनट करना ६ महीने में तो आप कही …पहुच जाओगे ….

AUDIO

VIDEO

POLL



Sant Shri Asaramji Amritvani
26 February 2010
Mumbai
Satsang ke mukhya ansh:
* Parmatma sabme anusyut hai…..
* Purani baten yaad karke dukhi nahi hona chahiye….
* “Tain tyakten bhunjeeta”……. kitna bhi pakad ke rakho sab chut raha hai…….
* “Ishavasya midam sarvam”   Eeshwar ko apne cahun our vyapne do..
* Eeshwar ki kripa ki pratiksha nahi samiksha karo……..

BhagwadPrapti Me 9 Vighna


संत श्री आसारामजी अमृतवाणी

शिवरात्रि ध्यान योग शिविर

नासिक २०१०

सत्संग के मुख्या अंश :

भगवद प्राप्ति में ८ प्रकार के विग्ना आते हैं उनसे बचें तो भाग्वाद्प्रप्ती सहज हो जाये …-

१ . आलस्य : अच्छा काम करने में आलस्य , परमार्थ में ढील करना , जप-ताप में ढील करना , ईश्वर प्राप्ति के साधन में  चलो बाद में करेंगे …

२ विलासिता : देखे- सम्भोग से १० प्रकार की हानि

३:  प्रसिद्धि की वासना : आदमी को बहिर्मुख केर देती है , प्रसिद्धि की वासना में आदमी न करने जैसे काम केर लेता है …

४ . मन , बढ़ाई , इर्ष्या : अपने से जादा कोई सुखी है , अपने से जादा कोई समजदार है अपने से जयादा किसी की प्रसिद्धि है तो उसको देख कर मन में जो इर्ष्या होती है वो भी साधक को नहीं आने देनी चाहिए …

५ अपने में गुरुभाव की स्थापना करना : मै जानकार हूँ , मै बड़ा गुरु हूँ , मै बड़ा श्रेष्ठ  हूँ , अपने में गुरु मन बड़ा भाव धारण करना …

६ बाहरी दिखावा : घर का , धन का , सत्ता का , बुद्धिमत्ता का दिखावा ….

७ परदोष चिंतन : किसी  के दोष देख कर अपने को  दोषी क्यों बनाना

८ संसारी कार्यों की अधिकता : विश्रांति भी छूट  जाती है , ध्यान भजन भी छूट  जाती है और चित्त को भगवान का आराम पके भगवद रस पाना भियो छुट जाता है ..

९ परोपकार : परोपकार करे लेकिन , दिखावा न करे , ….परोपकार का फल संसारी चीज की भावना न करे ,….. परमात्मा  प्रीती के लिए लगा दे…..

Sant Shri Asaramji Amritvani

ShivRatri Dhyan Yog Shivir

Nashik 2010

Maharastra

Satsang Ke Mukhya Ans :

Bhagwat prapti mein 8 prakar ke vigna aate hein unse bachein to bhagwat prapti sahej ho jaye

1. Alasya : Achha kam karne mein alasya, parmarth mein dheel jarna, jap tap mein dheel karna, eshwar prapti ke sadhan mein chalo bad mein karenge …

2. Vilasita: Watch SAMBHOG SE 10 PRAKAR KI HANI

3. Prashidhi ki vasna: Aadmi ko bahirmukh kardeti hai, prashidhi ki vsna mein aadmi na karne jaise kam kar lena hai…

4. Man, Badai, Ershya: Apne se jada koi sukhi hai, apne se jada koi samajhdar hai apne se jada kisi ki prassidhi hai to usko dekh kar man mein jo ershya hoti hai wo bhi sadhak ko nahi aane deni chahiye…

5. Apne mein guru bhao ki sthapna karna: Mein jankar ju , mein bada guru hu, mein bada shresta hu, apne mein guru mana bada bhav dharan karna…

6. Bahari Dikhawa: ghar ka, dhan ka , satta ka, budhimatta ka dikhawa…

7. Pardosh Chintan: kissi ke dosh dekh kar apne dill ko doshi ku banana

8. Sansari karyo ki adhikta: Vishranti bhi chut jati hai, dhyan bhajan bhi chut jata hai aur chitta ko bhagwan ka aarm pake bhagwat ras pana bhi chut jata hai…

9 . Paropkaar : pparopkaar kare , lekin dikhava na kare , paropkaar ka fal , ….parmatma prit me laga de….

.

Purusharth Kisko Bolte hain {पुरुषार्थ किसको बोलते हैं ?}


संत श्री आसारामजी अमृतवाणी

शिवरात्रि ध्यान योग शिविर

फरवरी २०१० , नासिक

सत्संग के मुख्या अंस :

* सबके दिल में दिलबर है …सबका मंगल , सबकी उन्नति , और सबके मंगल में अपना परम मंगल जगाना ..ये पुरुषार्थ है …

* पुरुषार्थ भी हो पर शास्त्र और संत सम्मत पुरुषार्थ हो …अभी तो दुनिया के सरे लोग पुरुषार्थ कर रहे हैं , पर पहले से ज्यादा अशांति है , पहले से ज्यादा झगडे हैं , पहले से ज्यादा असुरक्षा है ,  पहले से ज्यादा बीमारी है , क्या झक मारा पुरुषार्थ कर के ?

दूसरे का दुःख हरने  में लग जाओ ..तो आपके दुःख दुखहारी हरी के आनंद से नन्हा हो जायेगा , दूसरे को सुखी देख कर आप सुखी रहे तो , आपको सुखी रहने की मजदूरी नहीं करनी पड़ेगी मुफ्त में आपका ह्रदय सुखी होगा इसका नाम पुरुषार्थ है ….

To Watch Ekant Satsang Purusarth Kya Hai ? CLIK HERE

[blip.tv ?posts_id=3389912&dest=62448]


Sant Shri Asaramji Amritvani

Shivratri Dhyan Yog Shivir

Feb 2010 ,Nashik

Satsanbg Ke Mukhya Ans :

* sabke dil me dilbar hai ..sabka mangal , sabki unnati aur sabke mangal me apna param mangal jagana …ye purusharth hai ,baki sab prakritarth hai …

*  purusarth bhi ho per shastra aur sant sammat purusarth ho…abhi to duniya ke sare  log purusarth ker rahe hain ,per  pahle se jayada ashanti hai , pahle se jayada jhagda hai , pahle se jayada asuraksha hai , pahle se jayada bimari hai , kya jhak mara purusarth ker ke ? ….

*  dusre ka dukh herne me lag jao , to aapka dukh dukh hari hari ka anand se nanha ho jayega  , dusre ko sukhi dkh ker aap sukhi rahe to aapko sukhi rahne ki majduri nahi kerni padegi ..mufat me aapka hriday sukhi hoga , iska naam purusarth hai ….

Saral hai Bhakti


संत  श्री  आसारामजी  अमृतवाणी
उत्तरायण  ध्यान  योग  शिविर  ,
उज्जैन  , जनवरी  २०१०
सत्संग  के  मुख्य  अंश :
* भक्ति  पुरुषार्थी के  लिए  है  और  पुरुषार्थहीन  के  लिए  भी  है , जिसमे  कोई अकाल  नहीं  है , कोई  योग्यता  नहीं  है  उसको  भी  भक्ति  उठाती  है  और  जो  बड़ा  पुरुषार्थ  और  बल  वाला  है  उसके  लिए  भी  भक्ति  है ….
* जो  हुआ  अच्छा  हुआ  जो  हो  raha  है  अच्छा  है  जो  होगा  वो  भी  अच्छा  होगा  ये  नियम  पक्का  है  प्रभु  का  ऐसा  भक्त  मान  ले  प्रभु  का , बस  हो  गई  भक्ति  …. सरल  है  भक्ति..
Sant Shri Asaramji Amritvani
Uttarayan Dhyan Yog Shivir ,
Ujjain 2010
Satsang ke mukhya ansh:
* Bhakti purusharthi ke liye hai aur purusharth heen ke liye bhi hai, jissme koi akal nahi hai, koi yogyata nahi hai usko bhi bhakti uthati hai aur jo bada purusharth aur bal wala hai uske liye bhi bhakti hai….
* Jo hua achha hua jo ho raha hai achha hai jo hoga wo bhi achha hoga ye niyam pakka hai prabhu ka aisa bhakta man le prabhu ka, Bass ho gai Bhakti …. saral hai Bhakti..

Samarpan Aur Vidhi


Shri Sureshanandji Ki Amritvani
December 2009 ,
Surat
Satsang ke Mukhya Ans :
*  Ek rasta hai , Vidhiyon ka rasta , aur ek rasta hai , samapan ka rasta….
* Vidhi me samay ki avasyakta hai , ….lekin samarpan me samay nahi lagta……
* jahan kerne ki baat aa jati hai vahan samarpan nahi ho sakta , samarpan ek samaj hai , aur vo aa gayi , to vidhi ki koi jarurat nahi hai ….samapran apne aap me ek purna sadhan hai…..
* Guru jo kahte hain , usko sunte – sunte ye nirnayak banna hai , ki mujhe man ka drista banna hai…
* He ghatna ke sakshi bano… tu nirvichar hai , tu nirvikar hai….iska anubhav jitna samarpan se hoga utna prayatna se na hoga

Yogasan & Pranayam for Students


Shri Sureshanandji Ki Amritvani
Mathura

* Tadasan

* Vrikshasan

ekagrata badegi to yaadshakti badegi ….

* Bhramri Pranayam

* Ashvachalini Mudra ….{Yogic Mudra}- Jap , dhyan me man na lage to ashvachalini mudra karen….